Home
Videos uploaded by user “Stay Healthy”
गलसुआ - कारण, लक्षण और उपचार |Prevention of mumps|Mumps –Causes, symptoms and treatment &health tips
 
04:04
गलसुआ - कारण, लक्षण और उपचार |Prevention of mumps|Mumps – Causes, symptoms and treatment . गलसुआ एक वायरल संक्रमण है जो आसानी से फैलता है और शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है लेकिन, मुख्य रूप से लार ग्रंथियों को प्रभावित करता है जो कान और जबड़े के बीच में प्रत्येक गाल के पीछे स्थित होती हैं। गलसुआ लार ग्रंथियों की सूजन और दर्द का करण बनता है। गलसुआ के कारण इसका मुख्य कारण मम्प्स वायरल है और यह संक्रमित लार, छींकने या खंसने तथा संक्रमित व्यक्ति के साथ बर्तन साझा करने के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैलता है। लक्षणों की शुरुआत आमतौर पर वायरस से संपर्क के बाद 14-18 दिनों में होती है। measles mmr health tips
Views: 100747 Stay Healthy
हड्डियों के कमजोर होने का कारण, लक्षण और उपचार| What is Osteoporosis and How to prevent it in hindi|
 
05:04
हड्डियों के कमजोर होने का कारण, लक्षण और उपचार| What is Osteoporosis and How to prevent it in hindi| Osteoporosis in Hindi. Causes, symptoms and treatment of osteoporosis in Hindi. हड्डी कमजोर होने का कारण, लक्षण और उपचार. Calcium for strong bones in Hindi
Views: 73099 Stay Healthy
माजूफल के फायदे और नुकसान |Gallnut Powder Uses |Benefits Of Gallnut ( MAAJUFAL )|Oak Gall|Manjakani.
 
02:27
माजूफल के फायदे और नुकसान |Gallnut powder uses |Benefits of Gallnut ( MAAJUFAL )|Oak Gall|Manjakani. ओक गॉल्स को तमिल में मस्काई और मलेशिया में मंजाकनी के नाम से जाना जाता है। यह एक बहुत लोकप्रिय जड़ी बूटी है। विशेष रूप से तमिलनाडु में, आप घर आने वाले नवजात शिशुओं के सभी घरों में ओक गॉल्स पाएंगे। इसे हिंदी में "माजूफल" कहा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम क्वेरकस इंफेक्टोरिया (quercus infectoria) है। जिस तरह से माजूफल बनाया जाता है, वह बहुत दिलचस्प है। जब एक ओक के पेड़ की पत्तियों पर एक विशेष प्रकार के कीट हमला करते हैं तब माजूफल का उत्पादन होता है। माजूफल फल न होकर कीट का घर होता है। माजूफल देखने में गोल और कठोर होते हैं। इसके कारण पत्तियों को कीड़ों के चारों ओर गोल कणों का उत्पादन होता है, जो कि ओट पित्त कहा जाता है मंजाकनी। पागल से 5 से 6 महीने के बाद कीड़े निकल जाती हैं। ओट गॉल्स सूखने के बाद दुनिया भर में बेचे जाते हैं। Gallnut Powder Uses Benefits Of Gallnut Maajufal Oak Gall Manjakani Free vegetables gall wasp benefits of fruits health benefits
Views: 21326 Stay Healthy
Squint can treat by Yoga| भेंगेपन की समस्या का इलाज योग से सम्भव| Squint problem?|भेंगेपन की समस्या।
 
04:23
Squint can treat by Yoga| भेंगेपन की समस्या का इलाज योग से सम्भव| Squint problem?|भेंगेपन की समस्या। तिरछी आँखें। दोहरी दृष्टि। आँखें, जो एक दिशा में, एक रेखा में नहीं होतीं। आँखों की असंयोजी गति (आँखें एक साथ नहीं घूमतीं)। दृष्टि की या गहराई के अनुमान की हानि। कारण आँखों के एक रेखा में ना होने के कई, और कभी-कभी अज्ञात कारण होते हैं। सबसे सशक्त कारणों में दूर-दृष्टि दोष की उच्च स्थिति, थाइरोइड से होने वाला नेत्र रोग, मोतियाबिंद, आँखों की चोट, मायेस्थेनिया ग्रेविस, क्रेनियल नर्व पाल्सी, और कुछ रोगियों में इसकी उत्पत्ति मस्तिष्क या जन्मजात समस्या के कारण हो सकती है।
Views: 32865 Stay Healthy
BEST FOOD DIET FOR HIV/ AIDS POSITIVE PATIENT|WHAT FOOD TO EAT HIV OR AIDS PATIENT|  healthy tips.
 
02:42
BEST FOOD DIET FOR HIV/ AIDS POSITIVE PATIENT|WHAT FOOD TO EAT HIV OR AIDS PATIENT
Views: 27347 Stay Healthy
Rickets Symptoms In Adults In Hindi|How To Prevent Rickets|Rickets Treatment Guidelines|How To Cure.
 
04:23
Rickets symptoms in adults in hindi|How to prevent rickets|Rickets treatment guidelines|how to cure. How to cure rickets disease in hindi at home by home remedies and prevention of rickets disease. vitamin d deficiency vitamin b12 d3 health
Views: 8507 Stay Healthy
स्वर्ग की सीढ़ी का रहस्य...रावन ने बनायीं थी - Secret Of Ladder To Heaven
 
02:42
स्वर्ग की सीढ़ी का रहस्य...रावन ने बनायीं थी - secret of haven ladder..ravan हमारा उद्देश्य आपको ऐसी सच्चाई से अवगत करना है जिसके बारे मे आप नहीं जानते है हम आपको स्वर्ग की सीढ़ियों की सच्चाई बताना चाहते है कि सच मई ऐ सीढ़िया है भी कि नहीं ? heven hindi story haridwar ladder to heaven
Views: 7761 Stay Healthy
What Is Hiv/Aids - A Sexually Transmitted Disease | Natural Cure For Hiv And Aids | Symptoms Of Aids
 
01:55
What Is Hiv/Aids - A Sexually Transmitted Disease | Natural Cure For Hiv And Aids | Symptoms Of Aids we are telling you a natural cure of HIV/AIDS that could be helps to your body to fight from HIV/AIDS.what is hiv or aids and his symptoms,treatment ,prevention ,causes etc world aids day hiv test
Views: 17841 Stay Healthy
Lakwa Ka Desi Ilaj | Paralysis Treatment in Hindi | Home remedies for paralysis  | jiva ayurveda..
 
03:40
Lakwa Ka Desi Ilaj | Paralysis Treatment in Hindi | Home remedies paralysis of leg | jiva ayurveda. Lakwa Ka Desi Ilaj, Kaaran Aur Parheej Paralysis Treatment in Hindi|Home Remedies for Paralysis. falaj ka ilaj | treatment of stroke and paralysis | falaj ka desi ilaj in urdu hindi gharelu upchar laqwa ka ilaj in urdu health tips in hindi Lakwa Ke Lakshan (Symptoms of Paralysis in Hindi) Lakwa rog me rogi ke ek taraf ke sabhi ang kaam karna band kar dete hai, jaise baye pair ya baye hath ka kaam na kar pana. Sath hi in ango ki dimag tak chetna pahunchna bhi band ho jati hai. Lakwa rog ki wajah se ango ka tedapan, sharir me garmi ki kami aur kuchh yaad rakhne ki ability bhi khatm ho jati hai. Lakwa Ka Ayurvedic Upchar (Ayurvedic Treatment of Paralysis in Hindi) Yoga har marj ki dawa hai, isliye rojana pranayam aur kapalbhati kare. Kuchh dino tak roj rogi ko khajur (dates) ko dudh me bhigokar dete rahne se lakwa thik hone lagta hai. Sonth (dry ginger) aur urad ko pani me milakar halki anch me garam karke rogi nitya pilane se lakwa thik ho jata hai. Nashpati (pear), seb (apple) aur angur (grapes) ka ras barabar matra me ek glass me mila le aur rogi ko dete rahe. Kuchh samay tak yeh upay nitya kare, fayda miilega. 1 chammach kali mirch (black pepper) ko piskar 3 chammach deshi gaay ke ghee me milakar lep bana le aur lakwa grasit ango par iski malish kare. Aisa karne se lakwa grast ango ka rog dur ho jayga. Karele ki sabji ya karele ka ras ko nitya khane ya pine se lakwa se prabhavit ango me sudhar hone lagta hai. Pyaj (onion) khate rahne se bhi lakwa me fayda milta hai. 6 kali lehsun ko piskar 1 chammach makkhan me mila le aur roj iska sewan kare. Lakwa thik ho jayga. Tulsi ke patto, dahi (curd) aur sendha namak ko milakar uska lep karne se lakwa me fayda milta hai. Yeh upay lambe samay tak karna hoga. Garam pani me tulsi ke patto ko ubale aur uska bhap lakwa grasit ango ko dete rahne se lakwa thik hone lagta hai. 1/2 lt sarso ke tel me 50 gm lehsun dalkar paka le. Ab ise thanda karke tel nichod le aur ek dibbe me rakh le. Rojana is tel se lakwa wale ango par malish kare. Lakwa ka sahi samay par ilaj na hone se rogi ek apahiz ki jindagi jine ko majbur ho jata hai, isliye samay rahte lakwa ka upchar karana jaruri hai. Ayurvedic tariko se lakwa puri tarah se thik kiya ja sakta hai, lekin in upayo ko niyamit rup se apnaye. Ye upay lambe samay tak lagatar karne se hi fayda denge, isliye patience rakhe. https://youtu.be/vhGf2OZbJEY http://www.stayhealthy.site/%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A5%87-%E0%A4%B2%E0%A4%95%E0%A4%B5%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%87%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%9C/
Views: 5947 Stay Healthy
Treatment Of Cleft Lips And Palates With Surgery - Dental Treatment  While Cleft Lip Repair Surgery
 
02:06
Treatment Of Cleft Lips And Palates With Surgery - Dental Treatment While Cleft Lip Repair Surgery What Is a Cleft? An orofacial (or-oh-FAY-shul) cleft is when a baby is born with an opening in the lip and/or roof of the mouth (palate). Cleft lip and cleft palate happen is one of the most common birth defects. Both cleft lip and cleft palate are treatable. Most kids can have surgery to repair them within the first year or two of life. How Do Clefts Form? During the first 6 to 10 weeks of pregnancy, the bones and tissues of a baby's upper jaw, nose, and mouth normally come together (fuse) to form the roof of the mouth and the upper lip. A cleft happens when parts of the lip and mouth do not completely fuse together. A cleft lip may just look like a small opening on the edge of the lip, or it could extend into the nose. It may also extend into the gums. A cleft palate can vary in size. It could affect just the soft palate, which is near the back of the throat, or it also could make a hole in the hard palate toward the front of the mouth.
Views: 5612 Stay Healthy
HIGH ZINC RICH FOODS DIET PLAN IN HINDI | हाई जिंक युक्त फ़ूड डाइट प्लान |
 
02:50
HIGH ZINC RICH FOODS DIET PLAN IN HINDI | हाई जिंक युक्त फ़ूड डाइट प्लान | Zinc is a crucial mineral for humans. Children and infants need 5 mg and 10 mg of zinc whereas women need 12mg, pregnant women 15 mg and men need 16mg. Zinc aids in positive effects in the body and balances the immune system too. Deficiency of zinc can lead to low blood pressure, loss of appetite, low bone growth, depression and loss of sense of taste and smell. HIGH FIBER RICH FOODS DIET PLAN IN HINDI | हाई फाइबर युक्त फ़ूड डाइट प्लान | zinc, zinc supplement, zinc rich foods, zinc foods, zinc vitamin, best zinc supplement, zinc deficiency, sources of zinc, zinc benefits, foods high in zinc, foods containing zinc, what foods have zinc, natural zinc supplement, zinc supplement food, natural zinc, zinc rich fruits, zinc food sources, zinc mineral, natural sources of zinc, zinc in diet, zinc dietary supplement, vegan zinc, zinc nutrition, zinc rich foods for vegetarians, good sources of zinc, vegan zinc supplement, foods that have zinc, high zinc, best sources of zinc, what foods contain zinc you will see all health related video and tips for health "heart treatment" diet diseases sex advice cure aids "reduce weight" "sugar patient" piles "home rammidies" skin "diet plan"etc
Views: 15172 Stay Healthy
Why Squint eyes treatment is important for us.आपने बच्चो का भैंगापन इलाज क्यों व  कैसे कराए।
 
04:24
why squint eyes treatment is important for us.आपने बच्चो का भैंगापन इलाज क्यों व कैसे कराए। भैंगापन उसे कहते हैं जब दोनों आखों में परस्पर तालमेल ... उम्र में इसका सफल इलाज ज्यादा आसानी से संभव हो पाता ... से आने वाला प्रकाश आँख के लेंस पर पड़कर इस तरह मुड़ता हैं ... पड़ता है की वह सक्रिय हो | कई बार बच्चों में दो आँखों में
Views: 33937 Stay Healthy
मौत वन सकती है ह्य्पोथयरॉइड HYPOTHYROID| थायरॉइड क्या है? हाइपोथायरायडिज्म - Hypothyroidism in Hindi
 
04:42
Thyroid Symptoms Cause Treatment in Hindi थायराइड के लक्षण कारण व उपचार एक study के मुताबिक 10 में से 1 भारतीय Thyroid disorder से suffer करता है। But unfortunately, इस बीमारी के बारे में लोगों में awareness बहुत ही कम है। आज AchhiKhabar.Com (AKC) पर इस लेख के माध्यम से मेरा प्रयास होगा कि सरल भाषा में इस disease को समझा जाए और यदि थायराइड के लक्षण हैं तो सही समय पर इसका इलाज कराया जाए। तो आइये जानते हैं कि – थायराइड क्या होता है? / Thyroid in Hindi मौत वन सकती है ह्य्पोथयरॉइड HYPOTHYROID| थायरॉइड क्या है? हाइपोथायरायडिज्म - Hypothyroidism in Hindi Thyroid Symptoms in Hindi Thyroid गले में स्थित एक ग्रंथि (gland) का नाम है। यह ग्लैंड गले के आगे के हिस्से में मौजूद होता है और इसका आकार एक तितली के समान होता है। यह बॉडी के कई तरह के metabolic processes* को control करने के काम आता है। giter thyroid problems what is thyroid goitre
Views: 168272 Stay Healthy
HIGH POTASSIUM RICH FOODS DIET PLAN IN HINDI | हाई पोटैशियम युक्त फ़ूड डाइट प्लान | POTASSIUM DIET.
 
02:25
HIGH POTASSIUM RICH FOODS DIET PLAN IN HINDI | हाई पोटैशियम युक्त फ़ूड डाइट प्लान | POTASSIUM DIET. Potassium from natural food sources, like the list of potassium-rich foods below, is considered to very safe and very healthy. ... Overall, researchers found that people who ate avocados tended to have healthier diets overall, as well as an increased nutrient intake and a decreased likelihood of developing metabolic you will see all health related video and tips for health "heart treatment" diet diseases sex advice cure aids "reduce weight" "sugar patient" piles "home ramidies" skin "diet plan"etc
Views: 2130 Stay Healthy
Pudina Plant Information In Hindi | Pudina Benefits For Hair In Hindi|Mint Leaves Uses|Mint plant.
 
02:13
Pudina Plant Information In Hindi | Pudina Benefits For Hair In Hindi|Mint Leaves Uses|Mint plant.
Views: 1533 Stay Healthy
Best Benefits Of Eating Oats Meal During Pregnancy | Pregnancy Diet Plan
 
04:01
PREGNANCY DIET PLAN AND BEST BENEFITS OF OATS MEAL pregnancy DIET planner IS PROVIDES pregnancy recipes, pregnancy nutrition, pregnancy diet planNER IS THINKING ABOUT, DIET plan for pregnancy. Our first trimester DIET PLANNER planners have dishes that are rich in folate, which is great for your baby's developing nervous system. It also includes foods that contain vitamin B6, which may help ease nausea. In planner four you'll also find iron-rich meals. Iron helps your blood to move oxygen around your body. It's essential in pregnancy, as your blood volume increases. t's easy to feel overwhelmed by pregnancy nutrition advice and worry that your diet will never measure up. But eating well when you're pregnant doesn't need to be difficult: A few simple, online tools can help you make sure you're getting the nutrients you and your baby need. Here's a look at general nutrition guidelines and how you can use them to plan meals during your pregnancy. MyPlate You may remember the Food Guide Pyramid from the U.S. Department of Agriculture (USDA), which outlined how many daily servings you should eat from different categories of food. That pyramid has been adapted to become MyPlate, a system for choosing healthy food based on the USDA's Dietary Guidelines for Americans. The site even has a section on health and nutrition for pregnant and breastfeeding women, featuring a personalized tracking system that suggests meal plans based on your age, height, pre-pregnancy weight, activity level, and trimester. MyPlate divides food into five main groups – grains, fruit, vegetables, protein, and dairy – plus oils. To get an individualized meal plan with general guidelines on what to choose from each group, PREGNANCY foods to eat while pregnant pregnancy food chart
Views: 12978 Stay Healthy
कान का बहरापन को कैसे दूर करने के  लिए उपचार | Treatment for deafness or hearing | hearing aid  .
 
02:56
कान का बहरापन को कैसे दूर करने के लिए उपचार | Treatment for deafness or hearing | hearing aid . sign language कान की रचना कान के तीन हिस्से होते हैं - आउटर ईयर, मिडल ईयर और इनर ईयर। आउटर ईयर वातावरण से ध्वनि तरंगों के रूप में आवाजों को ग्रहण करता है। ये तरंगें कैनाल से होती हुई ईयरड्रम तक पहुंचती हैं और इनकी वजह से ईयरड्रम वाइब्रेट करने लगता है। इस वाइब्रेशन से मिडल ईयर में मौजूद तीन बेहद छोटी हड्डियों में गति आ जाती है और इस गति के कारण कान के अंदरूनी हिस्से में मौजूद द्रव हिलना शुरू होता है। इनर ईयर में कुछ हियर सेल्स (सुननेवाली कोशिकाएं) होती हैं, जो इस द्रव की गति से थोड़ी मुड़ जाती हैं और इलेक्ट्रिक पल्स के रूप में सिग्नल दिमाग को भेज देती हैं। ये सिग्नल ही हमें शब्दों और ध्वनियों के रूप में सुनाई देते हैं। कितनी तरह का लॉस हियरिंग लॉस यानी सुनने का दोष या नुकसान दो तरह का हो सकता है: 1. कंडक्टिव हियरिंग लॉस यह कान के बाहरी और बीच के हिस्से में आई किसी समस्या की वजह से होता है। इसे बीमारी की वजह से होने वाला बहरापन भी कह सकते हैं। वजह - कानों से पस बहना या इन्फेक्शन - कानों की हड्डी में कोई गड़बड़ी - कान के पर्दे का डैमेज हो जाना - ट्यूमर, जो कैंसरस नहीं होते 2. सेंसरीन्यूरल हियरिंग लॉस यह कान के अंदरूनी हिस्से में आई किसी गड़बड़ी की वजह से होता है। ऐसा तब होता है, जब हियर सेल्स नष्ट होने लगते हैं या ठीक से काम नहीं करते। दरअसल, कान में तकरीबन 15 हजार स्पेशल हियरिंग सेल्स होते हैं। इनके बाद नर्व्स होती हैं। हियर सेल्स को नर्व्स की शुरुआत कहा जा सकता है। इन्हीं की वजह से हम सुन पाते हैं, लेकिन उम्र बढ़ने के साथ-साथ ये सेल्स नष्ट होने लगते हैं, जिससे नर्व्स भी कमजोर पड़ जाती हैं और सुनने की शक्ति कम होती जाती है। वजह - उम्र का बढ़ना - कुछ खास तरह की दवाएं मसलन जेंटामाइसिन का इंजेक्शन। बैक्टीरियल इन्फेक्शन आदि में इस्तेमाल - कुछ बीमारियां जैसे डायबीटीज और हॉर्मोंस का असंतुलन। इसके अलावा मेनिंजाइटिस, खसरा, कंठमाला आदि बीमारियों से भी सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। - बहुत तेज आवाज - जब तक हमें पता चलता है कि हमें वाकई सुनने में कोई दिक्कत हो रही है, तब तक हमारे 30 फीसदी सेल्स नष्ट हो चुके होते हैं और एक बार नष्ट हुए सेल्स हमेशा के लिए खत्म हो जाते हैं। उन्हें दोबारा हासिल नहीं किया जा सकता। लक्षण सुनने की क्षमता में कमी आने के शुरुआती लक्षण बहुत साफ नहीं होते, लेकिन यहां ध्यान देने की बात यह है कि सुनने की क्षमता में आई कमी वक्त के साथ धीरे-धीरे और कम होती जाती है। ऐसे में जितना जल्दी हो सके, इसका इलाज करा लेना चाहिए। नीचे दिए गए लक्षण हैं तो डॉक्टर से मिलना चाहिए। - सामान्य बातचीत सुनने में दिक्कत होना, खासकर अगर बैकग्राउंड में शोर हो रहा हो - बातचीत में बार-बार लोगों से पूछना कि उन्होंने क्या कहा - फोन पर सुनने में दिक्कत होना - बाकी लोगों के मुकाबले ज्यादा तेज आवाज में टीवी या म्यूजिक सुनना - नेचरल आवाजों को न सुन पाना मसलन बारिश या पक्षियों के चहचहाने की आवाज - नवजात बच्चे का आवाज न सुन पाना इलाज - इन्फेक्शन की वजह से सुनने की क्षमता में कमी आई है, तो इसे दवाओं से ठीक किया जा सकता है। - अगर पर्दा डैमेज हो गया है, तो सर्जरी करनी पड़ती है। कई बार पर्दा डैमेज होने का इलाज भी दवाओं से ही हो जाता है। - नर्व्स में आई किसी कमी की वजह से सुनने की क्षमता में कमी आई तो जो नुकसान नर्व्स का हो गया है, उसे किसी भी तरह वापस नहीं लाया जा सकता। ऐसे में एक ही तरीका है कि हियरिंग एड का इस्तेमाल किया जाए। हियरिंग एड फौरन राहत देता है और दिक्कत को आगे बढ़ने से भी रोकता है। ऐसी हालत में हियरिंग एड का इस्तेमाल नहीं करते, तो कानों की नर्व्स पर तनाव बढ़ता है और समस्या बढ़ती जाती है। हर बच्चे की जांच जरूरी सुनने की क्षमता में कमी पैदायशी हो सकती है, इसीलिए सलाह यही है कि पैदा होते ही हर बच्चे की सुनने की क्षमता की जांच होनी चाहिए। सामान्य बाल रोग विशेषज्ञ यह जांच नहीं करते। इसके लिए किसी ईएनटी विशेषज्ञ से जांच कराएं। जांच में बच्चे को कुछ करने की जरूरत नहीं है। मशीन की मदद से उसकी ब्रेन की वेव्स को देखकर ही पता चल जाता है कि उसकी सुनने की क्षमता कैसी है। वैसे तो सभी बच्चों की जांच होनी चाहिए। बाद में अगर किसी बच्चे में कुछ शक लगे, तब तो यह जांच जरूर करानी चाहिए। मसलन, अगर छह महीने तक बच्चा किसी आवाज की ओर ध्यान न दे या दो साल की उम्र तक एक भी शब्द नहीं बोल पाए। अगर जल्द ही यह पता चल जाए कि बच्चे की सुनने की क्षमता में कमी है तो उसका इलाज किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए 2 से 3 साल तक की उम्र ही सही है। इसके बाद इलाज कराने का कोई फायदा नहीं है। इसकी वजह यह है कि पांच साल की उम्र तक बच्चे के सुनने, समझने और बोलने की क्षमता का पूरा विकास हो जाता है, इसलिए इसी उम्र तक उसके सुनने की क्षमता में सुधार हो गया तो ठीक है, वरना पांच साल के बाद ऑपरेशन कराने से उसके सुनने की क्षमता तो वापस आ जाएगी, लेकिन वह बोलना नहीं सीख पाएगा। बच्चों के इस तरह के बहरेपन के इलाज में या तो हियरिंग एड दिए जाते हैं या फिर बच्चे का कोकलियर ट्रांसप्लांट कर दिया जाता है। इन तरीकों से बच्चे की सुनने की क्षमता ठीक हो जाती है। अगर हियरिंग एड से फायदा नहीं मिल रहा है तो कोकलियर इम्प्लांट बड़ों का भी किया जा सकता है। यह सेफ तकनीक है और नतीजे बहुत अच्छे हैं, लेकिन महंगी बहुत है। एक कान के ऑपरेशन का खर्च आमतौर पर 6 से सात लाख रुपये आ जाता है। हि
Views: 29658 Stay Healthy
DIET PLAN WITH BALANCED RICH FAT FOODS | Healthy Fats List | हाई फैट युक्त फ़ूड डाइट प्लान
 
02:45
BEST DIET PLAN WITH BALANCED RICH FAT FOODS IN HINDI | हाई फैट युक्त फ़ूड डाइट प्लान | Healthy Fats List Are you afraid of fats? If so, you’re not alone. Fat in foods has been vilified in America for the past few decades, as low-fat and non-fat foods became the norm, and we were told that a low-fat diet would help us get the body we want. In fact, it’s one of the biggest nutrition lies that the public’s been told. healthy fats good fats fat burning foods healthy fats list low fat diet good fats list healthy fat foods, fatty foods, good fats to eat, low fat foods, good fat foods, fat burning diet, sources of fats, healthy fats to eat, best fat burning foods, fat diet, low fat foods list, good fats and bad fats, bad fats, examples of healthy fats, good and bad fats, monounsaturated fat, fatty foods list, best fats to eat, no fat foods, examples of good fats, low fat, high fat foods, fatty acid foods, healthy fat sources
Views: 3916 Stay Healthy
Bel Ka Juice Benefits In Hindi | Bel Ka Murabba Benefits | Wood Apple Juice During Pregnancy.
 
02:32
Bel ka juice benefits in hindi | Bel ka murabba benefits | Wood apple juice during pregnancy. you will see all health related video and tips for health "heart treatment" diet diseases sex advice cure aids "reduce weight" "sugar patient" piles "home ramidies" skin "diet plan"etc
Views: 3641 Stay Healthy
टायफॉइड । क्या आपको बार बार टायफॉइड होता है। जानिए कारण और तुरंत समाधान| टायफॉइड के कारण और लक्षण |
 
02:20
एक गिलास पानी बनता है टायफॉइड का कारण | टायफॉइड के कारण और लक्षण |Causes And Symptoms Of Typhoid | Follow Us On Facebook - https://www.facebook.com/STAY-Healthy-495943707439124/ Visit Our Website - http://stayhealthy.site टाइफायड साल्मोनेला बैक्टीरिया से फैलने वाली खतरनाक बीमारी है। इसे मियादी बुखार भी कहते हैं। टाइफायड बुखार पाचन तंत्र और ब्लटस्ट्रीम में बैक्टीरिया के इंफेक्शन की वजह से होता है। गंदे पानी, संक्रमित जूस या पेय के साथ साल्मोनेला बैक्टीरिया हमारे शरीर के अंदर प्रवेश कर जाता है। टायफायड की संभावना किसी संक्रमित व्यक्ति के जूठे खाद्य-पदार्थ के खाने-पीने से भी हो सकती है। वहीं दूषित खाद्य पदार्थ के सेवन से भी ये संक्रमण हो जाता है। पाचन तंत्र में पहुंचकर इन बैक्टीरिया की संख्या बढ़ जाती है। शरीर के अंदर ही ये बैक्टीर‌िया एक अंग से दूसरे अंग में पहुंचते हैं। टाइफायड के इलाज में जरा भी लापरवाही नहीं बरतनी चाह‌िए। दवाओं का कोर्स पूरा न किया जाए तो इसके वापस आने की भी संभावना रहती है। क्या है टाइफायड टाइफायड के बैक्टीरिया इंसानों के शरीर में ही पाया जाता है। इससे संक्रमित लोगों के मल से सप्लाई का पानी दूषित हो जाता है। ये पानी खाद्य पदार्थों में भी पहुंच सकता है। बैक्टीरिया पानी और सूखे मल में हफ्तों तक ‌जिंदा रहता है। इस तरह ये दूषित पानी और खाद्य पदार्थों के जरिए शरीर में पहुंचकर संक्रमण पहुंचाता है। संक्रमण बहुत अधिक हो जाने पर 3 से 5 फीसदी लोग इस बीमारी के कैरियर हो जाते हैं। जहां कुछ लोगों को हल्की से परेशानी होती है, जिसके लक्षण पहचान में भी नहीं आते वहीं कैरियर लंबे समय के लिए इस बीमारी से ग्रसित रहते हैं। उनमें भी ये लक्षण दिखाई नहीं देते लेकिन कई सालों तक इनसे टाइफायड का संक्रमण हो सकता है। लक्षण संक्रमित पानी या खाना खाने के बाद साल्मोनेला छोटी आंत के जरिए ब्लड स्ट्रीम में मिल जाता है। लिवर, स्प्लीन और बोनमैरो की श्वेत रुधिर क‌णिकाओं के जरिए इनकी संख्या बढ़ती रहती है और ये रक्त धारा में फिर से पहुंच जाते हैं। बुखार टाइफायड का प्रमुख लक्षण है। इसके बाद संक्रमण बढ़ने के साथ भूख कम होना, सिरदर्द, शरीर में दर्द होना, तेज बुखार, ठंड लगना, दस्त लगना, सुस्ती, कमजोरी और उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। आंतों के संक्रमण के कारण शरीर के हर भाग में संक्रमण हो सकता है, जिससे कई अन्य संक्रमित बीमारियां होने का खतरा भी बढ़ जाता है। संक्रमण के 1 से 3 सप्ताह बाद लक्षण प्रकट होते हैं। टाइफाइड के रोगियों के लक्षण हैं: बुखार जो हलकी शुरुआत के बाद 103-104 तक जाता है। सिरदर्द। छाती में अवरोध। भूख का कम होना। पूरे शरीर में जगह-जगह दर्द। कंपकंपी और सूखी खाँसी। आलस, कमजोरी और थकान। दस्त या कब्जियत। पेट में दर्द। चकत्ते (छाती और पेट पर गुलाबी रंग के निशान)। कारण टाइफाइड बुखार फ़ैलाने वाला बैक्टीरिया प्रदूषित भोजन और पानी से फैलता है। यदि आप प्रदूषित भोजन लेते हैं तो बैक्टीरिया रक्त प्रवाह में प्रविष्ट होकर गालब्लैडर (पित्त की थैली), पित्त वाहिनियों, या लिवर (यकृत) में पहुंचकर अपनी संख्या में वृद्धि करते हैं और आँतों में पहुँच जाते हैं। इस प्रकार लोग इसके वाहक बन जाते हैं और वर्षों तक अपने मल द्वारा इन्हें उत्सर्जित करके रोग फैलाते रहते हैं।
Views: 1119 Stay Healthy
licorice Powder Benefits In Hindi|मुलेठी मै है ऐसे गुण कि आप खाओगे तो बीमार नहीं होगे|
 
02:38
licorice powder benefits in hindi|मुलेठी मै है ऐसे गुण कि आप खाओगे तो बीमार नहीं होगे|
Views: 9038 Stay Healthy
I will tell you Best Diet or Food Plan for TB Patient | TB Patient diet chart in Hindi
 
02:46
I will tell you Best Diet or Food Plan for TB Patient | TB Patient diet chart in Hindi you will see all health related video and tips for health "heart treatment" diet diseases sex advice cure aids "reduce weight" "sugar patient" piles "home ramidies" skin "diet plan"etc
Views: 17710 Stay Healthy
Benefits Of Anjeer For Skin In Hindi|Anjeer Pregnancy|Benefits Of Anjeer For Skin|fig fruit benefits
 
02:39
Benefits Of Anjeer For Skin In Hindi|Anjeer Pregnancy|Benefits Of Anjeer For Skin|fig fruit benefits Anjeer Khane ke Fayde |HEALTHY BENEFITS OF EATING FIG ( ANJEER ) figs anjeer ke faide anjeer benefits in hindi
Views: 4565 Stay Healthy
डॉक्टर अर्चना वर्मा से जानिये डेंगू का आसन सरल और सफल असरदार उपाय | Dengue Fever Treatment In Hindi
 
04:29
डॉक्टर अर्चना वर्मा से जानिये डेंगू का आसन सरल और सफल असरदार उपाय | Dengue Fever Treatment In Hindi डॉक्टर से किसी भी बीमारी से जुडी जानकारी पाने के हमे कमेंट करे आपकी समस्या का डॉक्टर के द्वारा तुरंत ही समाधान किया जायेगा | डॉक्टर अर्चना वर्मा ( B.H.M.S. ) HOMEOPATHIC PHYSICIAN & CONSULTANT EXPERT IN ALL ACUTE & CHRONIC DISEASE ADDRESS - MODERN HOMEOPATHIC CLINIC ASHIK CHAURAHE, TEHSIL ROAD, JHANSI ( U.P. ) CALL NOW - 8004366618, 8299032950 FOLLOW US ON FACEBOOK - https://www.facebook.com/STAY-Healthy... FOLLOW US ON TWITTER - @stayhea42851752 VISIT ON OUR WEBSITE - http://www.stayhealthy.site/ दोस्तों दुनिया भर में हर साल लाखों लोग डेंगू के कारण अपनी जान गँवा देते है यह डेंगू का बुखार मादा एडिस मच्छर के काटने से फैलता है डेंगू के बुखार में शरीर के अंदर प्लेटलेट्स की कमी आने लगती है जिससे शरीर में खून की कमी आ जाती है | इस प्रजाति के मच्छर साफ़ पानी में फैलते है ये ड्रम टंकी और कूलर में पड़े पानी में ये मच्छर अंडे देते है | इन मच्छर की खास बात यह होती है की ये सिर्फ समय में ही काटते है | कुछ साधारण से लक्षण और कारणों को ध्यान में रखकर के डेंगू के बुखार का आप घर पर ही कुछ साधारण से घरेलु उपायों को प्रयोग करके बचाव कर सकते है | डेंगू बुखार के लक्षण व् कारण और इलाज के रामबाण उपाय जानने के लिए हमारी वीडियो को पूरा देखें | FOLLOW US ON FACEBOOK - https://www.facebook.com/STAY-Healthy... FOLLOW US ON TWITTER - @stayhea42851752 VISIT ON OUR WEBSITE - http://www.stayhealthy.site/
Views: 420 Stay Healthy
Tamarind Fruit Benefits For Liver In Hindi |इमली के फायदे और नुकसान | Tamarind health benefits
 
02:49
Tamarind Fruit Benefits For Liver In Hindi |इमली के फायदे और नुकसान | Tamarind health benefits इमली के खट्टे-मीठे स्वाद के कारण इसका नाम लेते ही सभी के मुँह में पानी आ जाता है। इमली खाना सभी पसंद करते हैं। इसका पेड़ सभी जगह आसानी से मिल भी जाता है। इसका प्रयोग कई चीज़ो में जैसे पानीपुरी का पानी तैयार करने, खाद्य पदार्थो को खट्टा बनाने और चटनी बनाने आदि में किया जाता है। इमली दक्षिण भारतीय व्यंजनों में प्रयोग किये जाने वाले सबसे सामान्य मसालों में से एक है। इमली का वानस्पतिक नाम टैमॅरिन्ड है। खान-पान में इमली के महत्व को सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका प्रयोग हमारे शरीर को कई प्रकार के रोगों और बीमारियों से बचाने के लिए भी किया जाता है? इमली में ज्वरनाशक और ऐन्टिसेप्टिक गुण होते हैं इसलिए इसका सेवन शरीर के लिए फायदेमंद होता है इमली के इतने फायदे, आप जानना चाहोगे ना । watch this video to know various health benefits of Imli @ Tamarind Tamarind is made to fight fatty livers. Tamarind is simply a great fruit that can remove the fat from your liverHEALTH BENEFITS OF TAMARIND FRUIT imli ke fayde eating tamarind
Views: 3128 Stay Healthy
एक रोग जिस में चमड़ा फट जाता है |pellagra treatment and prevention of pellagra and danger pellagra .
 
03:49
एक रोग जिस में चमड़ा फट जाता है |pellagra treatment and prevention of pellagra and danger pellagra .
Views: 1857 Stay Healthy
Prevention of Diabetic Retinopathy Symptoms, Causes,Treatments |मधुमेह से उत्पन्न आँखों की समस्या`
 
04:11
Prevention of Diabetic Retinopathy |Diabetic Retinopathy: Symptoms, Causes,Treatments in hindi मधुमेह से उत्पन्न आँखों की समस्या Definition Diabetic retinopathy is a diabetes complication that affects eyes. It's caused by damage to the blood vessels of the light-sensitive tissue at the back of the eye (retina). At first, diabetic retinopathy may cause no symptoms or only mild vision problems. Eventually, it can cause blindness. Symptoms You might not have symptoms in the early stages of diabetic retinopathy. As the condition progresses, diabetic retinopathy symptoms may include: - Spots or dark strings floating in your vision (floaters) - Blurred vision - Fluctuating vision - Impaired color vision - Dark or empty areas in your vision - Vision loss Causes Over time, too much sugar in your blood can lead to the blockage of the tiny blood vessels that nourish the retina, cutting off its blood supply. As a result, the eye attempts to grow new blood vessels. But these new blood vessels don't develop properly and can leak easily. Risk factors Anyone who has diabetes can develop diabetic retinopathy. Risk of developing the eye condition can increase as a result of: - Duration of diabetes - the longer you have diabetes, the greater your risk of developing diabetic retinopathy - Poor control of your blood sugar level - High blood pressure - High cholesterol - Pregnancy - Tobacco use - Being black, Hispanic or Native American Prevention If you have diabetes, reduce your risk of getting diabetic retinopathy by doing the following: - Manage your diabetes - Monitor your blood sugar level - Keep your blood pressure and cholesterol under control - If you smoke or use other types of tobacco, ask your doctor to help you quit - Pay attention to vision changes - Ask your doctor about a glycosylated hemoglobin test Treatments Treatment, which depends largely on the type of diabetic retinopathy you have and how severe it is, is geared to slowing or stopping progression of the condition. 1. Early diabetic retinopathy If you have mild or moderate nonproliferative diabetic retinopathy, you may not need treatment right away. However, your eye doctor will closely monitor your eyes to determine when you might need treatment. When diabetic retinopathy is mild or moderate, good blood sugar control can usually slow the progression. 2. Advanced diabetic retinopathy If you have proliferative diabetic retinopathy or macular edema, you'll need prompt surgical treatment. Focal laser treatment This laser treatment, also known as photocoagulation, can stop or slow the leakage of blood and fluid in the eye. During the procedure, leaks from abnormal blood vessels are treated with laser burns. Scatter laser treatment This laser treatment, also known as panretinal photocoagulation, can shrink the abnormal blood vessels. During the procedure, the areas of the retina away from the macula are treated with scattered laser burns. The burns cause the abnormal new blood vessels to shrink and scar. Vitrectomy Simply prevention of diabetic retinopathy by home remedies| Retinopathy: Symptoms, Causes,Treatments This procedure uses a tiny incision in your eye to remove blood from the middle of the eye (vitreous) as well as scar tissue that's tugging on the retina. It's done in a surgery center or hospital using local or general anesthesia.
Views: 6733 Stay Healthy
Early Signs Of Autism In Babies In Hindi|Early Signs Of Aspergers In Hindi|Autism Symptoms Checklist
 
02:43
क्या आपका बच्चा आपके चेहरे के हावभाव को देखकर कोई प्रतिक्रिया नहीं देता है? क्या वह आपकी आवाज सुनने के बावजूद न तो खुश होता है और न ही कुछ जवाब देता है? क्या वह दूसरे बच्चों की तुलना में ज्यादा चुप रहता है? अगर आपके बच्चे में भी ये लक्षण हैं तो हो सकता है कि वह ऑटिज्म से पीड़ित हो. ऑटिज्म एक मानसिक बीमारी है जिसके लक्षण बचपन से ही नजर आने लग जाते हैं. इस रोग से पीड़ित बच्चों का विकास तुलनात्मक रूप से धीरे होता है. ये जन्म से लेकर तीन वर्ष की आयु तक विकसित होने वाला रोग है जो सामान्य रूप से बच्चे के मानसिक विकास को रोक देता है. ऐसे बच्चे समाज में घुलने-मिलने में हिचकते हैं, वे प्रतिक्रिया देने में काफी समय लेते हैं और कुछ में ये बीमारी डर के रूप में दिखाई देती है.
Views: 1202 Stay Healthy
जानिए हैजा बीमारीं होने के लक्षण , कारण व घरेलु उपचार | Cholera Causes , Symptoms And Treatment
 
03:36
हैजा बीमारीं होने के लक्षण , कारण व घरेलु उपचार ! cholera causes,symptoms and treatment in hindi हैजा एक संक्रामक बीमारी (infectious disease) है, जो आंतों को प्रभावित करती है और जिसमें पानी की तरह पतले दस्त लग जाते हैं। हैजा का इलाज समय रहते न किया जाए तो व्यक्ति में पानी की कमी (dehydration) हो जाती है, जिससे व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। हैजा दूषित पानी पीने या दूषित खाना खाने के कारण फैलता है। ऐसा पानी या खाना जिसमें वाइब्रियो कोलेरी बैक्टीरिया (vibrio cholerae becteria) मौजूद हो, हैजा का कारण बनता है। हैजा (Haija) ऐसी जगह पर ज्यादा फैलता है जहां, साफ सफाई का अभाव हो, सीवरयुक्त पानी की सप्लाई हो, साग-सब्जी सीवर के पानी में उगाई जा रही हों या किसी का घर नाले आदि के पास स्थित हो। हैजा, बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक, किसी में भी हो सकता है। हैजा में व्यक्ति के शरीर से पानी के साथ कई जरूरी लवण, सोडियम और पोटेशियम आदि भी निकल जाते हैं, जिससे व्यक्ति के शरीर का रक्त अम्लीय हो जाता है और व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है। empathy home remedies for cholera haiza ka ilaj health aann90 healthcare googleplus https://plus.google.com/111723608981366558524 face book page https://www.facebook.com/STAY-Healthy-495943707439124/ twitter https://twitter.com/STAYHEALTHY001 https://www.stumbleupon.com/stumbler/shealthy8 https://in.pinterest.com/manvendrasinghw001/ https://westayhealthy.tumblr.com/
Views: 11783 Stay Healthy
Food diet plan for heart patient or after by pass surgery | हार्ट अटैक के बाद कैसा खाना खाये देखे|
 
04:44
Food diet plan for heart patient or after by pass surgery | हार्ट अटैक के बाद कैसा खाना खाये देखे A Patient's Guide to Heart Surgery: Diet and NutritionEat a variety of healthy foods. Choose foods low in fat and cholesterol. Eat less salt or sodium. Cut back on sugar and sweets. Eat more carbohydrates (potatoes, rice, pasta, vegetables) and fiber ("roughage"). Limit portion sizes
Views: 47408 Stay Healthy
Dog Bites/Rabies Treatment At Home - कुत्ते के काटने से होने वाली बीमारी का इलाज | Cure Dog Bite
 
03:36
Dog Bites/Rabies Treatment At Home - कुत्ते के काटने से होने वाली बीमारी का इलाज | Cure Dog Bite What is rabies? Rabies is a viral illness spread via the saliva of an infected animal. This occurs usually through biting a human or another animal. Transmission can also occur through saliva touching an open wound or touching mucous membranes. What causes rabies? Rabies is caused by the rabies virus. The virus infects the brain and ultimately leads to death. After being bitten by a rabid animal, the virus is deposited in the muscle and subcutaneous tissue. For most of the incubation period (which is usually one to three months), the virus stays close to the exposure site. The virus then travels via peripheral nerves to the brain and from there, again via peripheral nerves, to nearly all parts of the body. Any mammal can spread rabies. In the United States, rabies is most often transmitted via the saliva of bats, coyotes, foxes, raccoons, and skunks. In the developing world, stray dogs are the most likely animal to transmit rabies. The virus has also been found in cows, cats, ferrets, and horses. The local health department will usually have information on which animals in the area have been found to carry the rabies virus. What are risk factors for rabies? Any activity that brings someone in contact with possible rabid animals, such as traveling in an area where rabies is more common (Africa and Southeast Asia) as well as outdoor activity . googleplus https://plus.google.com/1117236089813... face book page https://www.facebook.com/STAY-Healthy... twitter https://twitter.com/STAYHEALTHY001 https://www.stumbleupon.com/stumbler/... https://in.pinterest.com/manvendrasin... https://westayhealthy.tumblr.com/ documental documentary discussion reality tv hospital how to medicine realidad science
Views: 3312 Stay Healthy
How To Use Insulin Pen In Hindi | इंसुलिन क्या है | Function Of Insulin Diabetic Insulin, Pen In Ind
 
04:23
Insulin pen in india|How to use insulin pen in hindi|इंसुलिन क्या है|3 functions of insulin diabetes इंसुलिन क्या है ज़हर या अमृत जानिए शुगर के मरीज़ क़े लिये |Benefits or side effect of insulin in human. diabetes mellitus type 1 diabetes symptoms of diabetes free diabetes diabetes management
Views: 10701 Stay Healthy
Diet Plan After Heart Attacks And Stents In Hindi | Precautions After Angioplasty Or Heart Surgery.
 
05:01
Diet plan after heart attacks and stents in hindi | Precautions after angioplasty or heart surgery. heart failure What should I eat after angioplasty/stenting? After your angioplasty/stenting, you should focus on eating a healthy diet. This will help your body to heal, reduce your risk of complications and enable you to recover well. A healthy diet will also reduce the risk of plaque building up in your arteries again. Many studies have shown that a diet rich in fruits, vegetables, wholegrains, nuts and seeds can reduce your risk of heart disease. Diet plan after heart attacks and stents in hindi | Precautions after angioplasty or heart surgery. heart failure A healthy diet provides your body with plenty of heart-protective nutrients - like vitamins, minerals, antioxidants and dietary fibre. Ideally, your diet should include
Views: 9046 Stay Healthy
Anorexia nervosa : दुनिया की  सबसे खतरनाक बीमारी | causes, symptoms, diagnosis, treatment,pathology
 
05:20
Anorexia nervosa : दुनिया की सबसे खतरनाक बीमारी | causes, symptoms, diagnosis, treatment,pathology Anorexia symptoms and treatment | Anorexia ka ilaj in hindi | anorexia ka ilaj gharelu upay भूख न लगने को मेडिकल भाषा में एनोरेक्सिया (Anorexia) या अरुचि रोग कहते हैं। एनोरेक्सिया (Anorexia) या अरुचि रोग में रोगी को भूख नहीं लगती, यदि जबरदस्ती भोजन किया भी जाय तो वह अरुचिकर लगता है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति 1 या 2 ग्रास से ज्यादा नहीं खा पाता और उसे बिना कुछ खाये -पिये ही खट्टी डकारें आने लगती हैं। एनोरेक्सिया (Anorexia) एनोरेक्सिया के लक्षण (Anorexia Symptoms) एनोरेक्सिया के कारण (Anorexia Causes) एनोरेक्सिया के शारीरिक कारणों (Physical Reason of Hunger Disorder) मानसिक कारण (Psychological​ Reason of Hunger and Eating Disorders​) एनोरेक्सिया का उपचार (Anorexia Treatment) भूख ना लगने के उपाय (Treatment of Anorexia or Hunger Disorder) एनोरेक्सिया का आयुर्वेद उपचार (Anorexia Ayurvedic Treatment) अरुचि या भूख ना लगने के आयुर्वेदिक उपाय (Ayurvedic Tips For Loss Of Anorexia) अरुचि या भूख ना लगने के आयुर्वेदिक उपाय (Ayurvedic Tips for Loss of Appetite) एनोरेक्सिया का घरेलू उपचार (Anorexia Home Remedies) एनोरेक्सिया के घरेलू उपचार (Home Remedies for Anorexia) Anorexia, एनोरेक्सिया, Loss of Appetite, Bhookh Na Lagna, भूख न लगना, Gharelu, Upchar, Ilaj, Upay, Nuskhe, घरेलू, इलाज, नुस्ख़े, उपाय, उपचार, Hindi, treatment, karan, lakshan, symptoms, anorexia ka ilaj in hindi, anorexia ka gharelu upay
Views: 2522 Stay Healthy
कैसे बचाव करे हेपेटाइटिस से। hepatitis causes, symptoms, diagnosis, treatment & pathology
 
05:20
कैसे बचाव करे हेपेटाइटिस से। hepatitis causes, symptoms, diagnosis, treatment & pathology हेपेटाइटिस बी दुनिया भर में होने वाली एक आम बीमारी है जिस के वायरस लीवर को गंभीर रोप से संक्रमित करते है! हेपेटाइटिस बी वायरस लीवर में सुजन पैदा करते हैं! जिस से वह ठीक धंद से काम नहीं कर पता! सवाई मानसिंह अस्पताल डॉक्टर रमेश रूपराय का कहना है के "यहबीमारी एड्स से भी ज्यादा खतरनाक है क्योंकि यह खून के द्वारा बहूत आसानी से दुसरे व्यक्ति के शरीर में चली जाती है! हेपेटाइटिस बी का सिर्फ एक वायरस ही इस बीमारी को फैलाने के लिए काफी है, वह खून के अलावा शरीर से निकलने वाले अन्य द्रवों से भी फैलता है! जैसे शौच, माँ का दूध, आंसू, लार और खुले घाव अतः इस के रोगी को चाहिए की वह आराम करे, दवा समय पर खाने एवं डॉक्टर की सलाह मानने पर 95 फीसदी लोग 6 महीने में ठीक हो जाते है! हेपेटाइटिस बी के फैलने के निम्न कारण है! संक्रमित व्यक्ति का रक्त स्वस्थ व्यक्ति को चढाने से या जिस सिरिंज से संक्रमित व्यक्ति को सुई लगाई गई हो और उसी से दुसरे व्यक्ति को सुई लगाई जाए तो वह वायरस संक्रमित यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति में चला जाता है! हेपेटाइटिस-बी फैलने का सब से महत्वपूर्ण समय संक्रमित माताओं के गर्भ से बच्चे के पैदा होने के समय होता है! इस दौरान बच्चे के शरीर पर जो रक्त लग जाता है उस संक्रमित रक्त में स्थित वायरस बच्चे के रक्त से संपर्क आते ही बच्चे के भीतर चले जाते है! भारत सहित एशिया के सभी देशो में इस प्रकार का संक्रमण बहूत फैलता है और नवजात शिशु बचपन से ही संक्रमित हो जाता है! खेल कूद के मैदान में संक्रमित व्यक्ति को जब चोट लग जाती है और उस का रक्त किसी तरह स्वस्थ व्यक्ति के रक्त के संपर्क में आ जाए तो यह आसानी से फ़ैल जाता है! सुई के ड्रग (नशा) का सेवन करने वालो में यह बहुतायत में फैलता है जिस में संक्रमित व्यक्ति द्वारा लिए गए इंजेक्शन में प्रयुक्त सिरिंज का प्रयोग दूसरा व्यक्ति करे तो वायरस स्वस्थ व्यक्ति में चला जाता है! जब पुरुष और स्त्री में से कोई एक हेपेटाइटिस बी से संक्रमित हो और असुरक्षित योन सम्बन्ध करते हो तो इस से भी वायरस एक से दुसरे व्यक्ति में चला जाता है! जिस प्रकार एड्स का वायरस फैलता है उसी प्रकार हेपेटाइटिस-बी का भी वायरस फैलता है! यहाँ तक की हेपेटाइटिस-बी से संक्रमित व्यक्ति के खून की एक बूँद का 100वा भाग ही इस बीमारी को फ़ैलाने में सक्षम है! इसके वायरस एड्स से ज्यादा ख़तरना होने का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है की जितने व्यक्ति हेपेटाइटिस-बी से एक दिन में मरते है उतने व्यक्ति एड्स से 1 साल में मरते है! भारत में स्वस्थ व्यक्ति भी इस से संक्रमित होता है, लेकिन कई व्यक्तियो हेपेटाइटिस-बी पॉजिटिव होने के बावजूद उसे इस बात की जानकारी नहीं होती की उसे हेपेटाइटिस है क्योंकि यह वायरस उस व्यक्ति को बहुत स्धिक प्रभावित नहीं कर पता! यदि हेपेटाइटिस वायरस जवान लोगो को संक्रमित करता है तो 95 प्रतिशत 6 महीने में ही रोग से मुक्त हो जाते है! बचे 5 प्रतिशत लोग ही रोग से संक्रमित रहते है! लोगो में यह भी भ्रम है की यह बीमारी लाइलाज है! लेकिन ऐसा नहीं है! बल्कि अच्छे डॉक्टर से सलाह कर के आसानी से ठीक हुआ जा सकता है! प्रमुख लक्षण संक्रमण की पहली अवस्था में व्यक्ति की वायरल बुखार जैसे लक्षण होते है! भूख न लग्न, उलटी आना, बुखार आना, ये लक्षण 5-7 दिन तक रहते है! 7 दिन बाद पीली होने लगती है और पेशाब पीला हो जाता है!जिसे आम भाषा में पीलिया कहा जाता है! पीलिया 2 से 4हफ्तों तक बढ़तारहता है, 95 फीसदी लोगो में यह 2-4 हफ्तों में ठीक हो जाता है! जब कभी व्यक्ति को लगे की उसेस हेपेटाइटिस बी हुआ है तो उसे तुरंत किसी गैसत्रोएंट्रोलोजिस्ट डॉक्टर को दिखाया जाना चाहिए, गाँव में जहा डॉक्टर उपलब्ध नहीं होते है तो कम से कम आँखों को फिजीशियन को दिखा लेना चाहिए! हेपेटाइटिस बी का टीकाकरण Hepatitis B Treatment इस बीमारी से लीवर को बचाने के लिए बहूत ही प्रभावकारी टीका उपलब्ध है! जिन को यह टीका लगा हुआ है उन में 99 प्रतिशत के शरीर में प्रभावी रक्षात्मक रोग प्रतिकारक ( एंटीबाडीज) उत्पन्न हो जाता है जो (Hepatitis B Treatment ) हेपेटाइटिस-बी के संक्रमण से बचने treatment में सहायक है! यह टीका सभी व्यक्तियों को 3 बार लगाना होता है! जन्म लेने वाले बच्चे में पहला टीका जन्म लेने के तुरंत बाद, दूसरा 1 महीने बाद तथा तीसरा 6 महीने पर, बड़ो में भी यह 3 बार लगवाया जाता है! बचाव के उपाय संक्रमित व्यक्ति के खून में यह वायरस 7 दिन तक जीवित रहता है! अतः संक्रमित व्यक्ति के तोलिये, ब्रश, कंघी का प्रयोग, दुसरे व्यक्ति को नहीं करना चाहिए! संक्रमित व्यक्ति के साथ एक ही थाली में स्वस्थ व्यक्ति को खाना नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह वायरस लार के द्वारा भी भीतर जा सकता है! संक्रमित व्यक्ति का लगाया गया इंजेक्शन दुस्सरे व्यक्ति को प्रयोग नहीं करना चाहिए! एक्युपंचर के लिए सभी को ने सुइयों का प्रयोग करना चाहिए, नहीं तो इन सुइयों से भी संक्रमण व्यक्ति का वायरस स्वस्थ व्यक्ति में चला जाता है! संक्रमित व्यक्ति के शौच से भी संक्रमण फ़ैल जाता है! अतः व्यक्ति को साफसुथरे शौचालय का प्रयोग करना चाहिए और उसके बाद शौचालय को ठीक प्रकार से धोकर साफ़ करना जरूरी है ताकि किसी दुसरे को संक्रमण ना हो! यौन सम्बन्ध बनाते समय संक्रमित व्यक्ति को कंडोम का प्रयोग जरूर करना चाहिए! यदि कोई व्यक्ति हेपेटाइटिस बी पॉजिटिव है तो उस के परिवार के अन्य सभी सदस्य को यदि टीका नहीं लगा है, तो टीका लगवा लेना चाहिए! खाने में क्या ले रोजाना 100-250 ग्राम चीनी को पानी में घोल कर पिए दाल (2-3 कटोरी), खिचड़ी, दलिया, चावल, आलू, साबूदाने की खीर, शकरकंदी, चावल के मुरमुरे (लाई ) खाए. हरी पत्तेदार सब्जिया अधिक खाए दूध, दही, तजा (खट्टा नहीं) ले!
Views: 4012 Stay Healthy
बबासीर का पक्का इलाज डॉक्टर विक्रांत द्वारा  | PILES TREATMENT IN HINDI
 
04:19
जानिए बबासीर की पूरी जानकारी और इलाज डॉक्टर विक्रांत सिंह गौर से - PILES COMPLETE TREATMENT IN HINDI | डॉक्टर विक्रांत सिंह गौर ( B.A.M.S. ) REG. NO. - DBCP/A/8062 EX - Senior Consultant At Jiva Ayurveda Delhi EX - RMO In Faridabad Medical Center Parkh Hospital Faridabad 5 Year Experience specialist In Piles , Hair Fall , Skin Problems , Likoria डॉक्टर से किसी भी बीमारी से जुडी जानकारी पाने के हमे कमेंट करे आपकी समस्या का डॉक्टर के द्वारा तुरंत ही समाधान किया जायेगा FOLLOW US ON FACEBOOK - https://www.facebook.com/STAY-Healthy-495943707439124 FOLLOW US ON TWITTER - @stayhea42851752 VISIT ON OUR WEBSITE - http://www.stayhealthy.site/ बवासीर जिसे अंग्रेजी भाषा में पाइल्स के नाम से भी जाना जाता है, एक दुखदायक बीमारी है। संबेदनशील स्थान पर होने के कारण यह शरीरिक पीड़ा के साथ-साथ मानसिक पीड़ा भी देती है। लेकिन बवासीर को घरेलू नुस्खों की मदद से ठीक किया जा सकता है। इस लेख में जानें बवासीर के लिए घरेलू उपचार। बदलती जीवनशैली और खान-पान के कारण पाइल्‍स के रोगियों की संख्‍या तेजी से बढ़ रही है। पूरे दिन कुर्सी पर बैठना और बिना किसी शेड्यूल के कुछ भी खा लेना इसका प्रमुख कारण है। बवासीर दो प्रकार की होती है – खूनी बवासीर और वादी बवासीर। खूनी बवासीर में मस्‍से सुर्ख होते हैं जिसके कारण खून निकलता है जबकि वादी बवासीर में मस्‍से काले होते हैं। बवासीर बेहद तकलीफदेह होती है। आइए हम आपको कुछ घरेलू नुस्‍खों के बारे में बताते हैं जिसका प्रयोग करके बवासीर और इससे होने वाले दर्द में राहत मिल सकती है। Bawaseer | Bawaseer ka ilaj in hindi | Home remedies for piles in hindi | Masse khatam karne ka ilaj http://www.stayhealthy.site/जानिये-बवासीर-का-उपचार/
Views: 4729 Stay Healthy
Benefits Of Eating Spinach Everyday In Hindi | Spinach Side Effects| Raw Spinach Juice Benefits.
 
02:52
Benefits of eating spinach everyday in hindi| Spinach side effects|raw spinach juice benefits. जानिए पालक के अनसुन्ने फायदे | हर रोग की दवा है पालक | health benefits of spinach spinach recipe spinach juice
Views: 4439 Stay Healthy
Orthopedic Surgery - Leg Pain Relief Treatment In Hindi | पैरो के टेढ़ेपन का इलाज  | Pairo Ke Tedepan
 
02:43
congenital clubfoot treatment - Pairo ke Tedepan,Langdepan or pair dardo ka ilaaj|पैरो के टेढ़ेपन,लँगड़ेपन और पैर दर्दों का का इलाज। एक ऐसा रोग है, जिसमें जन्म से ही बच्चे के पैरों में टेढ़ापन रहता है। एक चिकित्सकीय सर्वेक्षण के अनुसार 1000 बच्चों में से एक बच्चा इस रोग से प्रभावित होता है। कन्जेनाइटल क्लब फुट एक ऐसा रोग है, जिसमें जन्म से ही बच्चे के पैरों में टेढ़ापन रहता है। एक चिकित्सकीय सर्वेक्षण के अनुसार 1000 बच्चों में से एक बच्चा इस रोग से प्रभावित होता है। क्लब फुट से प्रभावित लगभग 50 प्रतिशत बच्चों में ऐसा टेढ़ापन दोनों पैरों में होता है। कारण: इस रोग के संभावित कारणों में इंट्रायूटेराइन ग्रोथ रीटार्डेशन और न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट्स को शामिल किया जाता है। दूसरे शब्दों मंें कहने का आशय यह है कि बच्चा जब मां की बच्चेदानी में विकसित हो रहा होता है, तब शिशु के विकास की प्रक्रिया अवरोधित हो जाती है। इस वजह से उसके पैरों में विकृति आ जाती है। लक्षण 1. इस बीमारी से ग्रस्त बच्चों में पैर अंदर की तरफ मुड़ता है। मुड़ने की यह प्रक्रिया धीरे-धीरे बढ़ती जाती है। इस कारण बच्चा लंगड़ाकर चलता है। 2. ऐसे बच्चों के बैठने पर उनकी एड़ी जमीन से उठी रहती है। 3. बच्चा पांव के बाहरी किनारे से चलने लगता है।
Views: 15308 Stay Healthy
Pointed Gourd Eating Benefits| During Pregnancy Benefits|Parwal Benefits In Hindi|Parwal Ke Fayde
 
02:31
Pointed gourd eating benefits|Pointed gourd during pregnancy|Parwal benefits in hindi
Views: 2213 Stay Healthy
जरूर देखिये लौंग खाने के सेहतमंद चमत्कारी फायदे|लौंग के फायदे और घरेलु नुस्खे|Clove Benefit In Hindi
 
04:10
जरूर देखिये लौंग खाने के सेहतमंद चमत्कारी फायदे|लौंग के फायदे और घरेलु नुस्खे| लौंग खाने के बाद बिस्तर पर कहर बरपाने के लिए हो जाएंगे मजबूर. संपादित - सूर्यादीप यादव 2016-10-06 19:33:47. नई दिल्ली: आज के समय में सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के लिए लोग न जानें क्या-क्या तरीके अपनाते हैं। कोई इंजेक्शन का इस्तेमाल करता है तो कोई दवाईयों का सहारा लेता है, लेकिन क्या आपको पता है कि कुछ देसी चीजें भी होती हैं जिनसे की सेक्स लाइफ को बेहतर बनाया जा सकता है। बेड पर धमाल मचाने के लिए लोग न जाने क्या क्या कोशिशें करते हैं फिर भी उनको कोई फायदा नहीं मिलता जरूर देखिये लौंग खाने के सेहतमंद चमत्कारी फायदे|लौंग के फायदे और घरेलु नुस्खे| health (industry) ayurveda gharelu nuskhe ayurvedic herbal
Views: 19240 Stay Healthy
HOW TO CURE HIV/AIDS BY YOGA|एड्स का इलाज योग से संभव।
 
03:43
CURE HIV/AIDS BY YOGA|एड्स का इलाज योग से संभव। we are telling you cure of HIV/AIDS BY YOGA that could be helps to your body to fight from HIV/AIDS.what is hiv or aids and his symptoms,treatment ,prevention ,causes etc world aids day hiv test
Views: 15545 Stay Healthy
How To Cure Chest Pain - Home Remedy For Chest Pain | Chest Pain Relief - How To Stop Chest Pain
 
03:52
How To Cure Chest Pain - Home Remedy For Chest Pain | Chest Pain Relief - How To Stop Chest Pain If you’ve ever had heart pain, then you know it’s concerning. Heart burn, or discomfort near the heart that’s perceived as heart pain, has many potential causes. It may be sharp, burning, or feel like chest pressure. Whatever the cause, when heart pain strikes, you want it to go away quickly. Call your local emergency services if: you think you’re having a heart attack you’re experiencing crushing pain you’re experiencing shortness of breath After calling your local emergency services, unlock any doors or barriers that may prevent help from reaching you and sit down until help arrives. QUICK SOLUTIONS How to treat heart pain right now quick solutions Home remedies are meant to manage infrequent chest pain caused by digestive issues or muscle strain. True heart pain may be caused by angina, a serious condition that occurs when blood flow is reduced to your heart. If you’re experiencing heart pain and you’ve been diagnosed with angina, take any prescription medications as instructed by your doctor. Home remedies for rapid relief of chest pain caused by digestive problems or muscle strain include: Almonds When heart pain occurs after eating, acid reflux or gastroesophageal reflux disease (GERD) may be to blame. Both conditions may cause intense chest pain. Many people claim that eating a handful of almonds or drinking almond milk when heartburn strikes eases symptoms. The evidence is anecdotal and there’s not enough scientific data to support this claim. Almonds are an alkaline food and in theory, they may help to soothe and neutralize acid in the esophagus.
Views: 7703 Stay Healthy
Quit Smoking Cigarettes With A Easy Method In Hindi | How To Get Rid Of Smoking | Harm Of Smoking
 
02:47
Quit Smoking Cigarettes With A Easy Method In Hindi | How To Get Rid Of Smoking | Harm Of Smoking नशा एक अभिशाप है । यह एक ऐसी बुराई है, जिससे इंसान का अनमोल जीवन समय से पहले ही मौत का शिकार हो जाता है । नशे के लिए समाज में शराब, गांजा, भांग, अफीम, जर्दा, गुटखा, तम्‍बाकु और धूम्रपान (बीड़ी, सिगरेट, हुक्का, चिलम) सहित चरस, स्मैक, कोकिन, ब्राउन शुगर जैसे घातक मादक दवाओं और पदार्थों का उपयोग किया जा रहा है । इन जहरीले और नशीले पदार्थों के सेवन से व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और आर्थिक हानि पहुंचने के साथ ही इससे सामाजिक वातावरण भी प्रदूषित होता ही है साथ ही स्‍वयं और परिवार की सामाजिक स्थिति को भी भारी नुकसान पहुंचाता है । नशे के आदी व्यक्ति को समाज में हेय की दृष्टि से देखा जाता है । नशे करने वाला व्‍यक्ति परिवार के लिए बोझ स्वरुप हो जाता है, उसकी समाज एवं राष्ट्र के लिया उपादेयता शून्य हो जाती है । वह नशे से अपराध की ओर अग्रसर हो जाता है तथा शांतिपूर्ण समाज के लिए अभिशाप बन जाता है । नशा अब एक अन्तराष्ट्रीय विकराल समस्या बन गयी है । दुर्व्यसन से आज स्कूल जाने वाले छोटे-छोटे बच्चों से लेकर बड़े-बुजुर्ग और विशेषकर युवा वर्ग बुरी तरह प्रभावित हो रहे है । इस अभिशाप से समय रहते मुक्ति पा लेने में ही मानव समाज की भलाई है । जो इसके चंगुल में फंस गया वह स्वयं तो बर्बाद होता ही है इसके साथ ही साथ उसका परिवार भी बर्बाद हो जाता है । आज कल अक्सर ये देखा जा रहा है कि युवा वर्ग इसकी चपेट में दिनों-दिन आ रहा है वह तरह-तरह के नशे जैसे- तम्बाकू, गुटखा, बीडी, सिगरेट और शराब के चंगुल में फंसती जा रही है । जिसके कारण उनका कैरियर चौपट हो रहा है । दुर्भाग्य है कि आजकल नौजवान शराब और धूम्रपान को फैशन और शौक के चक्कर में अपना लेते हैं । इन सभी मादक प्रदार्थों के सेवन का प्रचलन किसी भी स्थिति में किसी भी सभ्य समाज के लिए वर्जनीय होना चाहिए । जैसा कि हम सभी जानते हैं धूम्रपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है । इससे कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी होती है और यह चेतावनी सभी तम्बाकू उत्पादों पर अनिवार्य रूप से लिखी होती है, और लगभग सभी को यह पता भी है । परन्तु लोग फिर भी इसका सेवन बड़े ही चाव से करते हैं । यह मनुष्य की दुर्बलता ही है कि वह उसके सेवन का आरंभ धीरे-धीरे करता है पर कुछ ही दिनों में इसका आदी हो जाता है, एक बार आदी हो जाने के बाद हम उसका सेवन करें, न करें; तलब ही सब कुछ कराती है । डॉक्टरों का कहना है कि शराब के सेवन से पेट और लीवर खराब होते हैं । इससे मुख में छाले पड़ सकते हैं और पेट का कैंसर हो सकता है । पेट की सतही नलियों और रेशों पर इसका असर होता है, यह पेट की अंतड़ियों को नुकसान पहुंचाती है । इससे अल्सर भी होता है, जिससे गले और पेट को जोड़ने वाली नली में सूजन आ जाती है और बाद में कैंसर भी हो सकता है । इसी तरह गांजा और भांग जैसे पदार्थ इंसान के दिमाग पर बुरा असर डालते हैं । इन सभी मादक द्रव्यों से मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचने के साथ-साथ समाज, परिवार और देश को भी गंभीर हानि सहन करनी पड़ती है । किसी भी देश का विकास उसके नागरिकों के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है, लेकिन नशे की बुराई के कारण यदि मानव स्वास्थ्य खराब होगा तो देश का भी विकास नहीं हो सकता । नशा एक ऐसी बुरी आदत है जो व्यक्ति को तन-मन-धन से खोखला कर देता है । इससे व्यक्ति के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और उसके परिवार की आर्थिक स्थिति दिन-ब-दिन बिगड़ती जाती है । इस बुराई को समाप्त करने के लिए शासन के साथ ही समाज के हर तबके को आगे आना होगा । यह चिंतनीय है कि जबसे बाजार में गुटका पाउच का प्रचलन हुआ है, तबसे नशे की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है । आज बच्चे से लेकर बुजुर्ग भी गुटका पाउच के चपेट में है । Dosto yah sach hai...apko pata nhi aap kis jal mai pas chuke ho ...jaldi kuch karo or nashe se dur raho.
Views: 4855 Stay Healthy
See in video How to cure Cervical spondylosis  at home| सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस का इलाज कैसे करें|
 
05:48
See in video How to cure spondylosis in hindi at home naturally| स्पॉन्डिलाइटिस का इलाज कैसे करें| गर्दन में होने वाले दर्द को आमतौर पर लोग नजरअंदाज करते हैं, लेकिन कई बार यह दर्द बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। गर्दन में दर्द किसी भी उम्र के महिला -पुरुष और बच्चों को हो सकता है। लाइफ स्टाइल के कारण पिछले कुछ सालों में सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के रोगियों में बेतहाशा वृद्धि हुई है। क्या है सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस गर्दन का दर्द जो सर्वाइकल को प्रभावित करता है, वह सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस कहलाता है। यह गर्दन के निचले हिस्से, दोनों कंधों, कॉलर बोन तक पहुंच जाता है। इससे गर्दन घुमाने में परेशानी होती है और कमज़ोर मासपेशियों के कारण, हाथों को उठाना भी मुश्किल होता है। क्यों होता है सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस -कई बार जोड़ों (कंधों के जोड़ ) और गर्दन के जोड़ों में दर्द स्पोंडिलोसिस अनुवांशिक भी होता है, लेकिन अधिकतर मामलों में ऐसा नहीं होता। -स्पोंडिलोसिस होने के और भी कई कारण हैं जैसे कि उम्र का बढ़ना और ऑस्टियोपोरेसिस का होना. -कैल्शियम और विटामिन डी की कमी के कारण हड्डियों का कमज़ोर हो जाना। -सोते समय ऊंचा तकिया रखना, लेटकर पढना, टीवी देखना और घंटों कंप्यूटर के सामने बैठना। -घंटों भर सिलाई बुनाई करना। -गलत ढंग से और शारीरिक शक्ति से अधिक बोझ उठाना। -गठिया से पीड़ित रोगी। -लंबे समय तक ड्राइविंग करना। -कई गंभीर चोट या फ्रेक्चर के बाद हड्डियों में क्षय की स्थिति होने लगती है। -धुम्रपान भी एक महत्वपूर्ण कारण है। लक्षण व परेशानियां -कई बार गर्दन का दर्द हलके से लेकर ज्यादा हो सकता है। -गर्दन में दर्द और गर्दन का अकड़ना, स्थिति को गंभीर करने वाले मुख्य लक्षण हैं। -सर में पीछे की ओर दर्द का होना। -गर्दन को घुमाने पर गर्दन में पिसने की आवाज़ आना। -चक्कर आना। -कंधों में दर्द और जकड़न पैदा होना। -हाथों में सुन्नपन होना। -दर्द दोनों हाथों की उंगलियों में जाना, जिसे हम सर्वाइकल रेडीकुलोपैथी कहते हैं। यह नस के दबने की वजह से होता है। -गर्दन में सूजन आ जाती है। -सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की समस्या सिर्फ जोड़ और गर्दन के दर्द तक ही सीमित नहीं रहती, समस्या गंभीर होने पर बुखार, थकान, उलटी होना, चक्कर आना, भूक की कमी जैसे लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं। अगर आप और आपके किसी संबंधी को ये परेशानियां हैं तो तुरंत अपने नज़दीकी फिज़ियोथीरेपिस्ट से मिलें और सलाह लें क्या करें -बैठते समय गर्दन को सीधा रखें। -गाड़ी चलाते समय पीठ को सीधा रखें। - गद्दे की बजाय तख्त पर सोये। -नर्म व कम ऊंचाई वाले तकिये का प्रयोग करें। -पौष्टिक भोजन खाएं, खासकर ऐसा भोजन जो विटामिन डी और कैल्शियम से भरपूर हो। -गर्दन की सिकाई. तीव्र दर्द होने पर गरम पानी में नमक डालकर सिकाई करें। दिन में कम से कम तीन से चार बार करें. दर्द को जल्दी आराम देने में काफी लाभदायक है। इनसे परहेज रखें -धुम्रपान न करें। -चाय और कैफीन का सेवन कम करें। -गर्दन को ज्यादा देर तक झुकाकर न बैठें। -लेटकर टीवी न देखें। -लगातार कंप्यूटर पर न बैठें. अगर ऐसा करना ज़रूरी है तो गर्दन को थोड़ी थोड़ी देर में इधर उधर घुमाते रहे। -ऊंचे तकिये का प्रयोग न करें। फिज़ियोथेरेपी फिजियोथेरेपिस्ट डॉक्टर तन्वी चौहान के मुताबिक सर्वाइकल व्यायाम दर्द की तीव्रता को कम करते हैं और साथ साथ अकड़े हुए जोड़ों और मासपेशियों को भी ठीक करते हैं। हालांकि फिज़ियोथेरेपी व्यायाम को करते समय यह बात हमेशा ध्यान रखें की अगर किसी भी समय ऐसा लगे की दर्द बढ़ रहा है तो व्यायाम कदापि न करें। सर्वाइकल व्यायाम को कम से कम दो बार अवश्य करें। व्यायाम इसके लिए कुछ खास किस्म के एक्सरसाइज आप कर सकते हैं। 1. रेंज ऑफ़ मोशन एक्सरसाइज -अपने सिर को दाएं तरफ कंधे तक झुकाएं। थोडा रुकें और फिर मध्य में लायें। यह क्रम बाएं तरफ भी करें। -अपनी ठुड्डी को नीचे की तरफ झुकाएं, रुकें और फिर सिर को पीछे ले जायें। -अपने सिर को बाएं तरफ के कान की तरफ मोडें, रुकें और फिर मध्य में लायें। यह क्रम दाएं तरफ भी करें। 2. इसोमेट्रिक एक्सरसाइज इस एक्सरसाइज को करते समय सांस को रोकें नहीं। हर व्यायाम को पांच से छह बार तक करें और शरीर को ढीला छोडें। -अपने माथे से हथेलियों पर दबाव दें और सिर को अपनी जगह से हिलने न दें। -अपनी हतेलियों का दबाव सिर के बाएं तरफ दें और सर को हिलने न दें. यही क्रम दाएं तरफ भी करें। अपनी हतेलियों का दबाव सिर के पीछे दें और सिर को स्थिर रखें।
Views: 3618 Stay Healthy
Treatment Of Squint Eye At Home In Hindi | देखिये भैंगापन का सटीक इलाज
 
06:17
आप देखेगे भैंगापन का सटीक इलाज :treatment of squint at home in hindi Ankho Ka Bhengapan Ka Ilaj - Treatment Of Squint Eyes Problem | Squint Eye Problem Surgery भेन्गेपन के लक्षण पूरे समय उपस्थित बने रह सकते हैं, या आते-जाते रह सकते हैं। लक्षणों में हैं: तिरछी आँखें। दोहरी दृष्टि। आँखें, जो एक दिशा में, एक रेखा में नहीं होतीं। आँखों की असंयोजी गति (आँखें एक साथ नहीं घूमतीं)। दृष्टि की या गहराई के अनुमान की हानि। कारण आँखों के एक रेखा में ना होने के कई, और कभी-कभी अज्ञात कारण होते हैं। सबसे सशक्त कारणों में दूर-दृष्टि दोष की उच्च स्थिति, थाइरोइड से होने वाला नेत्र रोग, मोतियाबिंद, आँखों की चोट, मायेस्थेनिया ग्रेविस, क्रेनियल नर्व पाल्सी, और कुछ रोगियों में इसकी उत्पत्ति मस्तिष्क या जन्मजात समस्या के कारण हो सकती है।
Views: 78351 Stay Healthy
Symptoms And Treatment Of Common Cold And Flu | How To Get Rid Over A Cold Fast | How To Cure A Cold
 
04:13
Symptoms And Treatment Of Common Cold And Flu | How To Get Rid Over A Cold Fast | How To Cure A Cold हालाँकि जुकाम का वायरस बहुत गंभीर प्रकार का नहीं होता लेकिन फिर भी सामान्य जुकाम आपको दुखी कर सकता है | प्रारंभिक रोग पहचान ही सामान्य जुकाम को जल्दी ठीक करने की कुंजी है | अगर आपको लगता है कि आपको ठण्ड लग गयी है या जुकाम होने वाला है तो आपको तुरंत जुकाम के एहतियाती उपाय अपनाने की ज़रूरत है | अपने विटामिन के अंतर्ग्रहण की मात्रा बढ़ाएं | अपने गले को राहत दें | अपने नासिका मार्ग को साफ़ करें | ये उपाय जुकाम से लड़ने के लिए आपके शरीर की क्षमता को शक्ति देंगे और जुकाम के समय को भी आशानुसार कम करेंगे | इन उपायों को अपनाने के अलावा, जितना आप कर सकें उतना आराम करें | एंटीबायोटिक लेने की कोशिश न करें क्योंकि जुकाम वायरस के कारण होता है, बैक्टीरिया के कारण नहीं और इसलिए एंटीबायोटिक से कोई लाभ नहीं होगा | वायरस के संपर्क में आने के लगभग तुरंत बाद लक्षणों की शुरुआत हो जाती है | सामान्य जुकाम के चिन्हों में शामिल हैं- नाक बहना, गले में खराश, खांसी, कंजेशन (congestion), पूरे शरीर में हल्का दर्द, हल्का बुखार, और थोड़ी थकान |[१] अगर आप अपना जुकाम जल्दी ठीक करना चाहते हैं तो आपको अपना काम तुरंत करने की ज़रूरत होगी | जुकाम के पहले 12 घंटों के बाद, यह कई दिनों तक बने रहने के लिए काफी फ़ैल जायेगा | आपको अपने शरीर की प्रतिरक्षा को मज़बूत करना चाहिए।
Views: 1205 Stay Healthy
How To Treat Dementia - Dementia Treatment With Home Remedies | Early Signs And Symptoms Of Dementia
 
05:17
How To Treat Dementia - Dementia Treatment With Home Remedies | Early Signs And Symptoms Of Dementia डिमेंशिया क्या है? क्या यह संभव है कि आपका कोई प्रियजन डिमेंशिया से ग्रस्त है, और आपको मालूम ही नहीं? सतर्क रहने के लिए आप को डिमेंशिया के बारे में क्या जानना चाहिए? या हो सकता है कि आपके परिवार में किसी को डिमेंशिया है, और आप समझ नहीं पा रहे कि उसकी देखभाल करें तो कैसे करें, क्योंकि वह व्यक्ति आपकी बात समझ ही नहीं पाता है और अजीब तरह से पेश आ रहा है. आइये, डिमेंशिया और उसकी देखभाल के बारे में कुछ आवश्यक बातें देखें. डिमेंशिया: संक्षेप में कहें तो डिमेंशिया किसी विशेष बीमारी का नाम नहीं, बल्कि एक बड़े से लक्षणों के समूह का नाम है (संलक्षण, syndrome)। डिमेंशिया को कुछ लोग "भूलने की बीमारी" कहते हैं, परन्तु डिमेंशिया सिर्फ भूलने का दूसरा नाम नहीं हैं, इसके अन्य भी कई लक्षण हैं–नयी बातें याद करने में दिक्कत, तर्क न समझ पाना, लोगों से मेल-जोल करने में झिझकना, सामान्य काम न कर पाना, अपनी भावनाओं को संभालने में मुश्किल, व्यक्तित्व में बदलाव, इत्यादि। यह सभी लक्षण मस्तिष्क की हानि के कारण होते हैं, और ज़िंदगी के हर पहलू में दिक्कतें पैदा करते हैं। यह भी गौर करें कि यह ज़रूरी नहीं है कि डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की याददाश्त खराब हो–कुछ प्रकार के डिमेंशिया में शुरू में चरित्र में बदलाव, चाल और संतुलन में मुश्किल, बोलने में दिक्कत, या अन्य लक्षण प्रकट हो सकते हैं, पर याददाश्त सही रह सकती है. डिमेंशिया के लक्षण अनेक रोगों की वजह से पैदा हो सकते हैं, जैसे कि अल्ज़ाइमर रोग, लुई बॉडीज वाला डिमेंशिया, वास्कुलर डिमेंशिया (नाड़ी सम्बंधित/ संवहनी मनोभ्रंश),फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया, पार्किन्सन, इत्यादि। लक्षणों के कुछ उदाहरण: हाल में हुई घटना को भूल जाना, बातचीत करने समय सही शब्द याद न आना, बैंक की स्टेटमेंट न समझ पाना, भीड़ में या दुकान में सामान खरीदते समय घबरा जाना, नए मोबाईल के बटन न समझ पाना, ज़रूरी निर्णय न ले पाना, लोगों और साधारण वस्तुओं को न पहचान पाना, वगैरह। रोगियों का व्यवहार अकसर काफी बदल जाता है। कई डिमेंशिया वाले व्यक्ति ज्यादा शक करने लगते हैं, और आसपास के लोगों पर चोरी करने का, मारने का, या भूखा रखने का आरोप लगाते हैं। कुछ व्यक्ति अधिक उत्तेजित रहने लगते हैं, कुछ अन्य व्यक्ति लोगों से मिलना बंद कर देते हैं और दिन भर चुपचाप बैठे रहते हैं। कुछ व्यक्ति अश्लील हरकतें भी करने लगते हैं। कौन से व्यक्ति में कौन से लक्षण नज़र आयेंगे, यह इस बात पर निर्भर है कि उनके मस्तिष्क के किस हिस्से में हानि हुई है। किसीमे कुछ लक्षण नज़र आते हैं, किसी में कुछ और। जैसे कि, कुछ रोगियों में भूलना इतना प्रमुख नहीं होता जितना चरित्र का बदलाव। भारत में ज़्यादातर लोग इन सब लक्षणों को उम्र बढ़ने का स्वाभाविक अंश समझते हैं, या सोचते हैं कि यह तनाव के कारण है या व्यक्ति का चरित्र बिगड गया है, पर यह सोच गलत है। ये लक्षण डिमेंशिया या अन्य किसी बीमारी के कारण भी हो सकते हैं, इसलिए डॉक्टर की सलाह लेना उपयुक्त है। अफ़सोस, भारत में डिमेंशिया की जानकारी कम होने के कारण इनमे से कई लक्षणों के साथ कलंक भी जुड़ा है। इसलिए डिमेंशिया से पीड़ित व्यक्ति यह सोच कर अपनी समस्याओं को छुपाते हैं कि या उन्हें पागल समझा जाएगा या लोग हंसेंगे कि क्या छोटी सी बात लेकर डॉक्टर के पास जाना चाहते हैं! परिवार वाले इन लक्षणों को बुढापे का नतीजा समझ कर नकार देते हैं। वे यह नहीं सोचते कि सलाह पाने से स्थिति में सुधार हो सकता है। उन्हें यह भी नहीं पता होता है कि व्यक्ति को सहायता की ज़रूरत है। व्यक्ति के बदले हुए व्यवहार को परिवार वाले हट्टीपन या चरित्र का दोष या पागलपन समझते हैं, और कभी दुःखी और निराश होते हैं, तो कभी व्यक्ति पर गुस्सा करने लगते हैं। निदान (diagnosis) क्यों ज़रूरी है: अगर कोई व्यक्ति डिमेंशिया के लक्षणों से परेशान है तो डॉक्टर से सलाह करनी चाहिए। डॉक्टर जांच करके पता चलाएंगे कि यह लक्षण किस रोग के कारण हो रहे हैं। हर भूलने का मामला डिमेंशिया नहीं होता–हो सकता है कि लक्षण किसी दूसरी समस्या के कारण हों, जैसे कि अवसाद (depression). या हो सकता है कि यह लक्षण ऐसे रोग के कारण हैं जिसे दवाई से पूरी तरह ठीक हो सकता है (उदाहरण के तौर पर thyroid होरमोन की कमी होना)। कुछ प्रकार के डिमेंशिया ऐसे भी हैं जिनका उपचार तो नहीं, पर फिर भी दवाई से कुछ रोगियों को लक्षणों से कुछ आराम मिल सकता है। यह सब तो डॉक्टर की जांच के बाद ही पता चल सकता है। डिमेंशिया किस को हो सकता है: डिमेंशिया शब्द अँग्रेज़ी का शब्द है, परन्तु इससे ग्रस्त व्यक्ति हर देश, हर शहर, हर कौम में पाए जाते हैं। इसकी संभावना उम्र के साथ बढ़ती है। अगर आप बुजुर्गों के किस्से सुनें तो पायेंगे कि परिवार ने जिसे एक अधेढ़ उम्र के व्यक्ति का अटपटा व्यवहार समझा था, वह शायद व्यवहार शायद डिमेंशिया के कारण था। (चूंकि डिमेंशिया अँग्रेज़ी का शब्द है, इसलिए देवनागरी लिपि में इसे लिखने के कई तरीके हैं, जैसे कि: डिमेन्शिया, डिमेंशिया डिमेंश्या, डिमेंटिया, डेमेंटिया, इत्यादि. कुछ लोग इसके लिए संस्कृत के शब्द, मनोभ्रंश का इस्तेमाल करते हैं) विश्व भर में डिमेंशिया की पहचान पिछले कुछ दशक में ज्यादा अच्छी तरह से हुई है, और अब डॉक्टरों का मानना है कि यह लक्षण उम्र बढ़ने का साधारण अंग नहीं हैं। जो रोग डिमेंशिया का कारण हैं, उन पर शोध हो रहा है ताकि बचाव और इलाज के तरीके ढूंढें जा सकें। आजकल भी, डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्तियों और उनके परिवार वालों के आराम के लिए कुछ उपाय मौजूद हैं, जिससे व्यक्ति और उसके परिवार वाले ज्यादा सरलता और सुख से रह सकें, लक्षणों की वजह से हो रही तकलीफें कम हो जाएँ, और घर के माहौल का तनाव कम हो।
Views: 661 Stay Healthy
White Chillies Benefits|Safed Mirch For Eyes In Hindi|Dakhni Mirch Ke Fayde In Hindi`
 
02:32
White chillies benefits|Safed mirch for eyes in hindi|Dakhni mirch ke fayde in hindi`
Views: 5827 Stay Healthy
टाइफाइड होने के कारण होता है आपके शरीर में ये नुकसानदायक बदलाव | जानिये क्या होता है टायफॉइड
 
02:53
टाइफाइड होने के बाद होता है आपके शरीर में ये नुकसानदायक बदलाव | जानिये क्या होता है टायफॉइड टाइफायड साल्मोनेला बैक्टीरिया से फैलने वाली खतरनाक बीमारी है। इसे मियादी बुखार भी कहते हैं। टाइफायड बुखार पाचन तंत्र और ब्लटस्ट्रीम में बैक्टीरिया के इंफेक्शन की वजह से होता है। गंदे पानी, संक्रमित जूस या पेय के साथ साल्मोनेला बैक्टीरिया हमारे शरीर के अंदर प्रवेश कर जाता है। टायफायड की संभावना किसी संक्रमित व्यक्ति के जूठे खाद्य-पदार्थ के खाने-पीने से भी हो सकती है। वहीं दूषित खाद्य पदार्थ के सेवन से भी ये संक्रमण हो जाता है। पाचन तंत्र में पहुंचकर इन बैक्टीरिया की संख्या बढ़ जाती है। शरीर के अंदर ही ये बैक्टीर‌िया एक अंग से दूसरे अंग में पहुंचते हैं। टाइफायड के इलाज में जरा भी लापरवाही नहीं बरतनी चाह‌िए। दवाओं का कोर्स पूरा न किया जाए तो इसके वापस आने की भी संभावना रहती है। क्या है टाइफायड टाइफायड के बैक्टीरिया इंसानों के शरीर में ही पाया जाता है। इससे संक्रमित लोगों के मल से सप्लाई का पानी दूषित हो जाता है। ये पानी खाद्य पदार्थों में भी पहुंच सकता है। बैक्टीरिया पानी और सूखे मल में हफ्तों तक ‌जिंदा रहता है। इस तरह ये दूषित पानी और खाद्य पदार्थों के जरिए शरीर में पहुंचकर संक्रमण पहुंचाता है। संक्रमण बहुत अधिक हो जाने पर 3 से 5 फीसदी लोग इस बीमारी के कैरियर हो जाते हैं। जहां कुछ लोगों को हल्की से परेशानी होती है, जिसके लक्षण पहचान में भी नहीं आते वहीं कैरियर लंबे समय के लिए इस बीमारी से ग्रसित रहते हैं। उनमें भी ये लक्षण दिखाई नहीं देते लेकिन कई सालों तक इनसे टाइफायड का संक्रमण हो सकता है।
Views: 6329 Stay Healthy
Moong Dal Benefits Ayurveda|Moong Dal Benefits Weight Loss In Hindi| जानिए मूंग की दाल  के फायदे |
 
02:01
Moong Dal Benefits Ayurveda|Moong Dal Benefits Weight Loss In Hindi| जानिए मूंग की दाल के फायदे | जानिए मूंग की दाल के फायदे | Stay Healthy हर दाल के अपने पौष्ट‍िक गुण होते हैं. वैसे दाल में प्रोटीन की भरपूर मात्रा पाई जाती है. यही वजह है कि बढ़ रहे बच्चों को दाल का अधि‍क से अधि‍क सेवन करने की सलाह दी जाती है Moong Dal Benefits Ayurveda|Moong Dal Benefits Weight Loss In Hindi| How to Stay Healthy | health Image result for Moong dal benefits The many benefits of Moong Dal. Moong Dal is Packed with protein and low carbs, green gram otherwise known as moong dal is one of the best vegetarian superfoods. An integral part of the Indian diet, it is a good and filling option for those who want to shed kilos. ... Other pulses are high in protein but carbs too. Healthy Tips , Benefits of Health , Healthy Food , Moong Dal Recipes , Healthy Food To Loose Weight
Views: 1892 Stay Healthy